होम

 जैन धर्म 

 तीर्थकरों 

 जैन साहित्य     

जैन आचार्य

जैन पर्व

 जैन तीर्थ

  होम(Home) >  
जैन पर्व >


 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

            The Jain Tirthankara Shri Kunthunath
 श्रीकुंथुनाथ जिन पूजा
   Goat
 (चिह्न : बकरा)
           (छन्द माधवी तथा किरीट - वर्ण 14)
अज अंक अजै पद राजै निशंक, हरे भवशंक निशंकित दाता |
मदमत्त मतंग के माथे गँथे, मतवाले तिन्हें हने ज्यों अरिहाता ||
गजनागपुरै लियो जन्म जिन्हौं, रवि के प्रभु नंदन श्रीमति-माता |
सो कुंथु सुकंथुनि के प्रतिपालक, थापौं तिन्हें जुतभक्ति विख्याता |
ॐ ह्रीं श्रीकुंथुनाथजिनेन्द्र | अत्र अवतर अवतर संवौषट् |
ॐ ह्रीं श्रीकुंथुनाथजिनेन्द्र | अत्र तिष्ठ तिष्ठ ठः ठः |
ॐ ह्रीं श्रीकुंथुनाथजिनेन्द्र | अत्र मम सन्निहितो भव भव वषट् |
                                       अष्टक
       चाल - लावनी मरहठी की, लाला मनसुखरायजी कृत
कुंथु सुन अरज दास केरी, नाथ सुन अरज दासकेरी |
भवसिन्धु पर्यो हौं नाथ, निकारो बांह पकर मेरी ||
प्रभु सुन अरज दासकेरी, नाथ सुन अरज दासकेरी |
जगजाल पर्यो हौं वेगि निकारो बांह पकर मेरी |टेक|
सुरसरिता को उज्ज्वल जल भरि, कनकभृंग भेरी |
मिथ्यातृषा निवारन कारन, धरौं धार नेरी ||कुंथु0
ॐ ह्रीं श्रीकुंथुनाथजिनेन्द्राय जन्मजरामृत्युविनाशनाय जलं नि0स्वाहा |1|
बावन चंदन कदलीनंदन, घसिकर गुन टेरी |
तपत मोह नाशन के कारन, धरौं चरन नेरी ||कुंथु0
ॐ ह्रीं श्रीकुंथुनाथजिनेन्द्राय भवातापविनाशनाय चन्दनं नि0स्वाहा |2|
मुक्ताफलसम उज्ज्वल अक्षत, सहित मलय लेरी |
पुंज धरौं तुम चरनन आगे अखय सुपद देरी ||कुंथु0
ॐ ह्रीं श्रीकुंथुनाथजिनेन्द्राय अक्षयपदप्राप्तये अक्षतान् नि0स्वाहा |3|
कमल केतकी बेला दौना, सुमन सुमनसेरी |
समरशूल निरमूल हेत प्रभु, भेंट करौं तेरी ||कुंथु0
ॐ ह्रीं श्रीकुंथुनाथजिनेन्द्राय कामबाणविध्वंसनाय पुष्पं नि0स्वाहा |4|
घेवर बावर मोदन मोदक, मृदु उत्तम पेरी |
ता सों चरन जजौं करुनानिधि, हरो छुधा मेरी ||कुंथु0
ॐ ह्रीं श्रीकुंथुनाथजिनेन्द्राय क्षुधारोगविनाशनाय नेवैद्यं नि0स्वाहा |5|
कंचन दीपमई वर दीपक, ललित जोति घेरी |
सो ले चरन जजौं भ्रम तम रवि, निज सुबोध देरी ||कुंथु0
ॐ ह्रीं श्रीकुंथुनाथजिनेन्द्राय मोहान्धकार विनाशनाय दीपं नि0स्वाहा |6|
देवदारु हरि अगर तगर करि चूर अगनि खेरी |
अष्ट करम ततकाल जरे ज्यों, धूम धनंजेरी ||कुंथु0
ॐ ह्रीं श्रीकुंथुनाथजिनेन्द्राय अष्टकर्मदहनाय धूपं नि0स्वाहा |7|
लोंग लायची पिस्ता केला, कमरख शुचि लेरी |
मोक्ष महाफल चाखन कारन, जजौं सुकरि ढेरी ||कुंथु0
ॐ ह्रीं श्रीकुंथुनाथजिनेन्द्राय मोक्षफल प्राप्तये फलं नि0स्वाहा |8|
जल चंदन तंदुल प्रसून चरु, दीप धूप लेरी |
फलजुत जनन करौं मन सुख धरि, हरो जगत फेरी ||कुंथु0
ॐ ह्रीं श्रीकुंथुनाथजिनेन्द्राय अनर्घ्यपदप्राप्तये अर्घ्यं नि0स्वाहा |9|
                      पंच कल्याणक अर्घ्यावली
                    (छन्द मोतियादाम वर्ण 12)
सुसावन की दशमी कलि जान, तज्यो सरवारथसिद्ध विमान |
भयो गरभागम मंगल सार, जजें हम श्री पद अष्ट प्रकार ||
ॐ ह्रीं श्रावणकृष्णादशम्यां गर्भमंगलमंडिताय श्रीकुंथु0अर्घ्यं नि0 |1| 
महा बैशाख सु एकम शुद्ध, भयो तब जनम तिज्ञान समृद्ध |
कियो हरि मंगल मंदिर शीस, जजें हम अत्र तुम्हें नुतशीश ||
ॐ ह्री वैशाकशुक्लाप्रतिपदायां जन्ममंगलप्राप्ताय श्रीकुंथु0अर्घ्यं नि0 |2|
तज्यो षटखंड विभौ जिनचंद, विमोहित चित्त चितार सुछद |
धरे तप एकम शुद्ध विशाख, सुमग्न भये निज आनंद चाख ||
ॐ ह्री वैशाकशुक्लाप्रतिपदायां तपोमंगलप्राप्ताय श्रीकुंथु0अर्घ्यं नि0 |3|
सुदी तिय चैत सु चेतन शक्त, चहूं अरि छयकरि तादिन व्यक्त |
भई समवसृत भाखि सुधर्म, जजौं पद ज्यों पद पाइय पर्म ||
ॐ ह्रीं चैत्रशुक्लातृतीयायां केवलज्ञानप्राप्ताय श्रीकुंथु0अर्घ्यं नि0 |4|
सुदी वैशाख सु एकम नाम, लियो तिहि द्यौस अभय शिवधाम |
जजे हरि हर्षित मंगल गाय, समर्चतु हौं तुहि मन-वच-काय ||
ॐ ह्री वैशाकशुक्लाप्रतिपदायां मोक्षमंगलप्राप्ताय श्रीकुंथु0अर्घ्यं नि0 |5|
                                        जयमाला
                   (अडिल्ल छंद-मात्रा 21 रुपकालंकार)
षट खंडन के शत्रु राजपद में हने |
धरि दीक्षा षटखंडन पाप तिन्हें दने ||
त्यागि सुदरशन चक्र धरम चक्री भये |
करमचक्र चकचूर सिद्ध दिढ़ गढ़ लये |1|
ऐसे कुंथु जिनेश तने पद पद्म को |
गुन अनंत भंडार महा सुख सद्म को ||
पूजौं अरघ चढ़ाय पुरणानंद हो |
चिदानंद अभिनंद इन्द्र-गन-वंद हो |2|
                            पद्धरि छंद (मात्रा 16)
जय जय जय जय श्रीकुंथुदेव, तुम ही ब्रह्मा हरि त्रिंबुकेव |
जय बुद्धि विदाँवर विष्णु ईश, जय रमाकांत शिवलोक शीश |3|
जय दया धुरंधर सृष्टिपाल, जय जय जगबंधु सुगनमाल |
सरवारथसिद्धि विमान छार, उपजे गजपुर में गुन अपार |4|
सुरराज कियो गिर न्हौन जाय, आंनद-सहित जुत-भगति भाय |
पुनि पिता सौंपि करमुदितअंग, हरितांडव-निरत कियो अभंग |5|
पुनि स्वर्ग गयो तुम इत दयाल, वय पाय मनोहर प्रजापाल |
षटखंड विभौ भोग्यो समस्त, फिर त्याग जोग धार्यो निरस्त |6|
तब घाति केवल उपाय, उपदेश दियो सब हित जिनाय |
जा के जानत भ्रम-तम विलाय, सम्यक् दर्शन निर्मल लहाय |7|
तुम धन्य देव किरपा-निधान, अज्ञान-क्षमा-तमहरन भान |
जय स्वच्छ गुनाकर शुक्त सुक्त, जयस्वच्छ सुखामृत भुक्तिमुक्त |8|
जय भौभयभंजन कृत्यकृत्य, मैं तुमरो हौं निज भृत्य भृत्य |
प्रभु असरन शरन अधार धार, मम विघ्न-तूलगिरि जारजार |9|
जय कुनय यामिनी सूर सूर, जय मन वाँछित सुख पूर पूर |
मम करमबंध दिढ़ चूर चूर, निजसम आनंद दे भूर भूर |10|
अथवा जब लों शिव लहौं नाहिं, तब लों ये तो नित ही लहाहिं |
भव भव श्रावक-कुल जनमसार, भवभव सतमति सतसंग धार |11|
भव भव निजआम-तत्व ज्ञान, भव-भव तपसंयमशील दान |
भव-भव अनुभव नित चिदानंद, भव-भव तुमआगम हे जिनंद |12|
भव-भव समाधिजुत मरन सार, भव-भव व्रत चाहौं अनागार |
यह मो कों हे करुणा निधान, सब जोग मिले आगम प्रमान |13|
जब लों शिव सम्पति लहौं नाहिं, तबलों मैं इनको लहाँहि |
यह अरज हिये अवधारि नाथ, भवसंकट हरि कीजे सनाथ |14|
                        छन्द घत्तानन्द (मात्रा 31)
जय दीनदयाला, वरगुनमाला, विरदविशाला सुख आला |
मैं पूजौं ध्यावौं शीश नमावौं, देहु अचल पद की चाला |15|
ॐ ह्रीं श्रीकुंथुनाथ जिनेन्द्राय पूर्णार्घ्यं निर्वपामीति स्वाहा |
                          छंद रोड़क (मात्रा - 24)
कुंथु जिनेसुर पाद पदम जो प्रानी ध्यावें |
अलिसम कर अनुराग, सहज सो निज निधि पावें ||
जो बांचे सरधहें, करें अनुमोदन पूजा |
'वृन्दावन' तिंह पुरुष सदृश, सुखिया नहिं दूजा ||
              इत्याशीर्वादः (पुष्पांजलिं क्षिपेत्)


                                                                                         

                                                                        (Hindi Version)

                                         Site copyright ã 2004, jaindharmonline.com All Rights Reserved                  

                                                             Best viewed at 800 x 600 screen size