होम

 जैन धर्म 

 तीर्थकरों 

 जैन साहित्य     

जैन आचार्य

जैन पर्व

 जैन तीर्थ

 होम(Home) >  
जैन पर्व(Jain Festivals) >

 

 

 

 

 

 

 

  सम्यग्ज्ञान पूजा
  दोहा -  
पंच भेद जाके प्रकट, ज्ञेय-प्रकाशन-भान |
मोह - तपन - हर चंद्रमा सोई सम्यक् ज्ञान ||
ॐ ह्रीं अष्टविध सम्यग्ज्ञान! अत्र अवतर अवतर संवौषट् |
ॐ ह्रीं अष्टविध सम्यग्ज्ञान! अत्र तिष्ठ तिष्ठ ठः ठः |
ॐ ह्रीं अष्टविध सम्यग्ज्ञान! अत्र मम सन्निहितो भव भव वषट् | 

सोरठा -  
नीर सुगंध अपार, तृषा हरे मल छय करे |
सम्यग्ज्ञान विचार, आठभेद पूजौं सदा ||
ॐ ह्रीं अष्टविध सम्यग्ज्ञानाय जलं निर्वपामीति स्वाहा |1|
जल केशर घनसार, ताप हरे शीतल करे | सम्यग्ज्ञान0
ॐ ह्रीं अष्टविध सम्यग्ज्ञानाय चंदनं निर्वपामीति स्वाहा |2|
अछत अनूप निहार, दािद नाशे सुख भरे | सम्यग्ज्ञान0
ॐ ह्रीं अष्टविध सम्यग्ज्ञानाय अक्षतान् निर्वपामीति स्वाहा |3|
पुहुप सुवास उदार, खेद हरे शुचि करे | सम्यग्ज्ञान0
ॐ ह्रीं अष्टविध सम्यग्ज्ञानाय पुष्पं निर्वपामीति स्वाहा |4|
नेवज विविध प्रकार, छुधा हरे थिरता करे | सम्यग्ज्ञान0
ॐ ह्रीं अष्टविध सम्यग्ज्ञानाय नैवेद्यं निर्वपामीति स्वाहा |5|
दीप-ज्योति तम-हार, घट-पट परकाशे महा | सम्यग्ज्ञान0
ॐ ह्रीं अष्टविध सम्यग्ज्ञानाय दीपं निर्वपामीति स्वाहा |6|
धूप घ्रान-सुखकर रोग विघन जड़ता हरे | सम्यग्ज्ञान0
ॐ ह्रीं अष्टविध सम्यग्ज्ञानाय धूपं निर्वपामीति स्वाहा |7|
श्रीफल आदि विथार निहचे सुर-शिव फल करे | सम्यग्ज्ञान0
ॐ ह्रीं अष्टविध सम्यग्ज्ञानाय फलं निर्वपामीति स्वाहा |8|
जल गंधाक्षत चारु, दीप धूप फल फूल चरु | सम्यग्ज्ञान0
ॐ ह्रीं अष्टविध सम्यग्ज्ञानाय अर्घ्यं निर्वपामीति स्वाहा |9| 

जयमाला
दोहा -
 
आप आप जाने नियत, ग्रन्थ पठन व्यौहार |
संशय विभ्रम मोह बिन, अष्ट अंग गुनकार ||
सम्यक् ज्ञान-रतन मन भाया, आगम तीजा नैन बताया |
अक्षर शुद्ध अर्थ पहिचानो, अक्षर अरथ उभय संग जानो ||
जानो सुकाल-पठन जिनागम, नाम गुरु न छिपाइये |
तप रीति गहि बहु मौन देके, विनय गुण चित लाइये ||
ये आठ भेद करम उछेदक, ज्ञान-दर्पण देखना |
इस ज्ञान ही सों भरत सीझे, और सब पटपेखना ||
ॐ ह्रीं अष्टविध सम्यग्ज्ञानाय पूर्णार्घ्यं निर्वपामीति स्वाहा |
इत्याशीर्वादः (पुष्पांजलिं क्षिपेत्)
  
         

 
                                                                                         

                                                                        (Hindi Version)

                                         Site copyright ã 2004, jaindharmonline.com All Rights Reserved                  

                                                             Best viewed at 800 x 600 screen size