होम

 जैन धर्म 

 तीर्थकरों 

 जैन साहित्य     

जैन आचार्य

जैन पर्व

 जैन तीर्थ

  होम>  
 जैन साहित्य  >

 

 

 

 

 

 

 

 

 

   कुछ प्रमुख जैन साहित्य ग्रंथ एवं रचनाएँ                                        
     
कुछ प्रमुख जैन साहित्य ग्रंथ एवं रचनाएँ

आ0 कुन्द कुन्दः- समयसार,प्रवचनसार, नियमसार, पंचास्तिकाय, रयणसार, मूलाचार, अष्ट पाहुड
आ0 पुष्पदंत एवं आ.भूतबलीः- षट्खंडागम,कषायपाहुड
आ0 अमृतचन्दः- पुरुषार्थ सिद्धि उपाय,समयासार कलश समयासार की टीका "आत्म ख्याति"
आ0 अकलंक देवः- तत्त्वार्थ राजवार्त्तिक,अष्टशती,न्याय विनिश्चय,सिद्धि विनिश्चय
आ0 मानत्तुंगः- भक्तामर स्तोत्र
आ0 उमास्वामीः- तत्वार्थसूत्र
आ0 नेमिचन्द्र सिद्धान्त चक्रवतीः- लब्धिसार,क्षपणसार,द्रव्य संग्रह,त्रिलोक,गोमट्टसार (जीवकाण्ड,कर्मकाण्ड)
आ0 समन्तभद्रः- रत्नकरण्ड श्रावकाचार,स्वयंभू स्तोत्र,आत्म-मीमाँसा
आ0 विद्यानन्द स्वामीः- श्लोक वार्तिक,अष्ट सहस्त्री 
आ0 धर्मभूषणः- न्याय दीपिका
आ0 पूज्यपादः- इष्टोपदेश,समाधि तंत्र,सर्वार्थ सिद्धि
आ0 शुभचन्द्रः- ज्ञानर्णव,श्रेणिक चरित्र
आ0 वीरसेन स्वामीः- धवला टीका
आ0 रविषेणः- पद् मपुराण (जैन रामायण)
आ0 गुणधरः- कषाय पाहुड
आ0 माणिक नंदीः- परीक्षामुख
आ0 वीरनन्दी स्वामीः- आचारसार
आ0 प्रभाचन्द्रः- प्रमेय कमल मार्त्तण्ड
आ0 जिनसेन-1:- हरिवंश पुराण 2:- आदिपुराण
आ0 देवसेनः- आलाप पद्धति,नय चक्र
आ0 जयसेनः- समयसार की टीका- "तात्पर्यवृत्ति"
आ0 गुणभद्र-1:- आत्मानुशासन, उत्तर पुराण 2:- धन्यकुमार चरित्र
यतिव्रषभाचार्यः- तिलोय पण्णत्ति,चूर्णि सूत्र
आ0 वादिराजः- एकीभाव स्तोत्र
आ0 कुमुदचन्द्रः- कल्याण मंदिर स्तोत्र
धनंजय कविः- विषाहार स्तोत्र
आ0 वसुनन्दिः- श्रावकाचार,प्रतिष्ठा सार संग्रह
आ0 सकलकीर्तिः- आदिपुराण, उत्तरपुराण जैन महाभारत,शान्तिनाथ-
मल्लिनाथ चरित्र,पाश्व्रपुराण महावीर पुराण सार संग्रह,व्रत कथा कोष,मूलाचार प्रदीप
आ0 सोमकीर्तिः- चारुदत्त चरित्र,यशोधर चरित्र,प्रद्दुम्न चरित्र
आ0 कुमार स्वामीः- कार्तिकेय अनुप्रेक्षा
आ0 भद्रबाहुः- भद्रबाहु संहिता
आ0 अमितगतिः- भावना द्वात्रिंशतिका
आ0 पध्मनंदिः- पंचविंशतिका
आ0 शिव कोटिः- भगवती आराधना
आ0 सूर्यसागरः- संयम प्रकाश (4 भाग)
आ0 देश भूषणः- जैन धर्म का एतिहास
पं0 राजमलः- लाठी संहिता,हनुमान-जम्बू स्वामी चरित्र,शान्तिनाथ पुराण
पं0 टोडरमल जीः- मोक्ष मार्ग प्रकाशक,सम्यग्ज्ञान चन्द्रिका,गोमट्टसार,लब्धिसार व क्षपणसार की टीकाएँ
पं0 आशाधरः- सागार धर्मामृत, अनगार धर्मामृत, अमरकोष
टीका,प्रतिष्ठापाठ- भव्य कुमुद चन्द्रिका 
पं0 बनारसीदासः- समयसार नाटक
पं0 दौलतरामः- छह ढाला
पं0 जुगल किशोरः- मेरी भावना
आ0 विद्यासागरः- मूक माटी, जैन गीता
क्षु0 जिनेन्द्र वर्णीः- जिनेन्द्र सिद्धान्त कोष,शान्ति पथ प्रदर्शन,नये दर्पण
आ0 ज्ञान सागर जी (ब्र0भूरामल जी):- जयोदय महाकाव्य
धनंजय कविः- विषापहार स्तोत्र
असंग कविः- शान्तिनाथ चरित्र,वर्धमान चरित्र     

    

                                                                                                   

                                                                        (Hindi Version)

                                         Site copyright ã 2004, jaindharmonline.com All Rights Reserved                  

                                                             Best viewed at 800 x 600 screen size