होम

 जैन धर्म 

 तीर्थकरों 

 जैन साहित्य     

जैन आचार्य

जैन पर्व

 जैन तीर्थ

होम(Home) >  
 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

                     जैन धर्म और पर्यावरण
   

                              Jain Tirthankar meditation under a tree

  जैन धर्म ने सर्वाधिक पौधो को अपनाने का संदेश दिया हैं| जैन धर्म के सभी 24 तीर्थंकरो के अलग-अलग 24 पौधे हैं| कई पौधो को हिन्दु,  ईस्लाम,  ईसाई और जैन धर्मों में मान्यता प्राप्त हैं| मेंहदी, तुलसी, खजूर, अंगुर, पीपल, जैतून और बबूल जैसे पौधे सभी में सम्मान प्राप्त हैं|
सभी धर्मों ने वनस्पति की रक्षा के लिए बरसात में इन पौधो को लगाने का संदेश दिया हैं| हिन्दु धर्म में इसे हरिशंकरी के नाम से जाना जाता है तो इस्लाम में इसे कुरानी वाटिका| जैन धर्म में अपने पौधो को तीर्थंकर वाटिका कहा जाता है तो बाईबिल में मसीह वाटिका के नाम से पुकारा जाता हैं|
ईसाई धर्म में मसीह वाटिका - अंजीर, अनार, खजूर, अंगूर, मेंहदी, बेर, घ्रतकुमारी, अरड़, काला शहतूत, काली सरसों, मेली, झाऊ
इस्लाम धर्म में कुरानी वाटिका - खजूर, जैतुन, अंगूर, अंजीर, बेरी, पीलू, मेंहदी, बबूल, तुलसी
हरिशंकरी - हिन्दु मान्यता के अनुसार पीपल को विष्णु और बरगद को शंकर का स्वरुप मना जाता हैं| बरसात में दोनो पौधो का रोपण पुण्यकरी बताया गया हैं|

24 तीर्थंकर के 24 पौधे 

 तीर्थंकर  पौधा 
ऋषभनाथ        - 
अजीतनाथ     -   
संभवनाथ     -    
अभिनंदन      -   
सुमतिनाथ   -     
पदमनाथ         -   
सुपाश्र्वनाथ -   
चंदप्रभनाथ -   
पुष्पदंत -    
शीतलनाथ -    
श्रेयांसनाथ -  
वायुपूज्य -  
विमलनाथ -  
अनंतनाथ -  
धर्मनाथ -  
शांतिनाथ - 
कुंथुनाथ -  
अरहनाथ -  
मल्लिनाथ -  
मुनि सुव्रतनाथ - 
नमीनाथ -  
नेमीनाथ -  
पाश्र्वनाथ -  
महावीर -  
वृट वृक्ष (Banyan )
चितवन
साल
चीड़
पियंगु
पियंगु
सीरस
नाज केशर
बहेडा
बेल
तेंदू
कदंब
जामुन
पीपल
कैथा
तून
तिलक
आम
अशोक
चंपा
मौलश्री
बांस
देवदार
साल

 

     
  

                                                                                            

                                                                        (Hindi Version)

                                         Site copyright ã 2004, jaindharmonline.com All Rights Reserved                  

                                                             Best viewed at 800 x 600 screen size