जैन हिन्दी समाचार [2014]
        जैन हिन्दी समाचार [2013]
        जैन हिन्दी समाचार [2012]
        जैन हिन्दी समाचार [2015]
       

  होम

 जैन धर्म 

 तीर्थकरों 

 जैन साहित्य     

जैन आचार्य

जैन पर्व

 जैन तीर्थ

होम(Home) >
 

 

 

 

 

 

 

 जैन हिन्दी समाचार (Jain News in Hindi)  2015

संथारा पर बैन के बाद भी जैन मुनि आध्यात्म सागर ने त्यागे प्राण, छोड़ दिया था खाना-पीना

रायपुर/दुर्ग., August 13, 2015: जयपुर हाईकोर्ट द्वारा संथारा (सल्लेखना) को अपराध बताए जाने के तीन दिन बाद ही दुर्ग में जैन मुनि आध्यात्म सागर ने प्राण त्याग दिए हैं। आध्यात्म सागर ने पांच दिन पहले ही अन्न जल छोड़ दिया था, सल्लेखना के लिए वे दमोह से दुर्ग आए थे। जैन मुनि की महासमाधि के बाद August 13 को दुर्ग के खंडेलवाल भवन से जलाराम वाटिका तक उनकी बैकुंठी (शोभायात्रा) निकाली गई, जिसमें बड़ी तादाद में श्रद्धालु शामिल हुए। हाईकोर्ट के फैसले के बाद से ही देशभर के जैन समुदायों की नजर मुनि आध्यात्म सागर पर टिकी हुई थी। मुनि आध्यात्म सागर का संक्षिप्त परिचय : सांसारिक नाम: कपूरचंद, जन्मस्थान: मलगुवां टीकमगढ़, जन्म: सन् 1930

राजस्थान हाईकोर्ट ने 10 अगस्त को एक याचिका पर सुनवाई करते हुए संथारा (सल्लेखना) की परंपरा को आत्महत्या जैसा अपराध बताया था। कोर्ट ने संथारा पर रोक लगाने का आदेश देते हुए कहा था कि संथारा लेने और संथारा दिलाने वाले-दोनों के खिलाफ आपराधिक केस चलना चाहिए। संथारा लेने वालों के खिलाफ आईपीसी की धारा 309 यानी आत्महत्या और संथारा के लिए उकसाने पर धारा 306 के तहत कार्रवाई की जानी चाहिए।

जैन समाज में यह हजारों साल पुरानी प्रथा है। इसमें जब व्यक्ति को लगता है कि उसकी मृत्यु निकट है तो वह खुद को एक कमरे में बंद कर खाना-पीना त्याग देता है। मौन व्रत रख लेता है। इसके बाद किसी भी दिन उसकी मौत हो जाती है। -Dainik Bhaskar

जैन मंदिर में बताया गया भक्तांबर स्रोत का महत्व

लखनऊ, August 7, 2015: जैन संत 108 दयासागर महाराज के चातुर्मास अनुष्ठान में मंगलवार को अभिषेक के बाद आचार्य ने 48 श्लोकों की महिमा बताई। कहा कि भक्तांबर स्त्रोत के मंत्रों का जाप करने से व्यक्ति बंधन मुक्त हो जाता है। शाम को आचार्य श्री आरती, चालीसा और नमोकार मंत्र का जाप किया गया। वहीं, संयोजक अमित कुमार जैन के अनुसार 12 अगस्त सें 28 सितंबर तक सुबह चूड़ी वाली गली स्थित दिगंबर जैन मंदिर में महाआराधना होगी। - नवभारत टाइम्स

आदिनाथ दिगंबर जैन मंदिर पर चोरों का धावा, वर्षों पुरानी प्रतिमाएं चोरी

डूंगरपुर., July 5, 2015: डूंगरपुर जिले के सागवाड़ा नगर में कंसारा चौक स्थित आदिनाथ दिगंबर जैन मंदिर (गांधियों का मंदिर) में गुरुवार देर रात अज्ञात चोरों ने मंदिर के साइड की जाली व सरिए तोड़कर प्राचीन प्रतिमाएं एवं चांदी के छत्र चुराकर फरार हो गए।

समाज के सेठ दिलीप कुमार नोगामिया ने बताया कि शुक्रवार सुबह 5 बजे जब मंदिर के सेवक बालकृष्ण ने पूजा-अर्चना के लिए मंदिर का मुख्य व गर्भ गृह का दरवाजा खोला, तो घटना की जानकारी मिली। उसने मंदिर में जिन प्रतिमाएं मौके पर नहीं पाकर जैन समाज के मुख्य लोगों को सूचना दी।

समाजजन तत्काल मंदिर पहुंचे व पुलिस थाने में सूचना दी। सूचना मिलने पर पुलिस निरीक्षक मनीष चारण, सहायक उपनिरीक्षक नारायण लाल मकवाणा पुलिसकर्मियों के साथ मौके पर पहुंचे एवं समाजजनों से घटना एवं चोरी गए सामान के बारे में जानकारी ली।

इसके बाद डीएसपी ब्रजराजसिंह चारण ने मंदिर का मौका मुआयना किया तथा पुलिस निरीक्षक चारण को दिशा निर्देश दिए। इस दौरान नरेन्द्र खोडनिया, अश्विन बोबड़ा, प्रदीप दोसी, महेन्द्र शाह, भरत शाह, चन्द्रशेखर संघवी, बदामीलाल मेहता, सुनील गोवाडिय़ा व सागरमल शाह आदि मौजूद थे।

नया मंदिर कमेटी के अध्यक्ष कीर्तिकुमार शाह के अनुसार मंदिर में विभिन्न स्थानों पर रखी छोटी-बड़ी पीतल की करीब 23 प्रतिमाएं तथा 500 ग्राम वजनी चांदी के 7 छत्र चुरा ले गए। प्रतिमाओं की लंबाई करीब 3 से 7 इंच तक थी। सभी प्रतिमाएं 100 से 250 साल पुरानी थी।

चोरी से जैन समाज में रोष व्याप्त है। समाज के सेठ नोगामिया के अनुसार मंदिर से चुराई प्रतिमाएं समाजजनों की आस्था व श्रद्धा की प्रतीक हैं। समाजजन रोजाना इन प्रतिमाओं का अभिषेक कर पूजा-अर्चना करते थे। चोरी से श्रद्धालुओं को ठेस पहुंची है।

समाजजनों ने पुलिस निरीक्षक से विशेष जांच दल गठित करने की मांग की। मंदिर के पास संकरी गली है, जिसमें दुपहिया वाहनों के साथ लोग पैदल ही आवागमन करते हैं।

जैन समाज के लोगों ने आशंका जताई कि चोरों ने इस गली की दीवार से चढ़कर मंदिर में प्रवेश किया। समाजजनों के मुताबिक मुख्य मंदिर की जाली व लोहे के सरिए तोड़कर चोर अंदर घुसे और जो भी हाथ लगा, समेटकर नौ-दो ग्यारह हो गए। - Rajasthan Patrika

किशनगंज में जैन मंदिर से अष्टधातु की 3 मूर्तियां चोरी

किशनगंज, May 15, 2015: मंगलवार की रात को बिहार के किशनगंज जिले में अज्ञात चोरों ने एक जैन मंदिर से अष्टधातु से बनी तीन प्राचीन और बहुमूल्य मूर्तियां चुरा लीं और फरार हो गए। यह मंदिर किसनगंज जिले के ठाकुरगंज थाना क्षेत्र में आता है।

थाना प्रभारी श्रीराम चौधरी ने बुधवार को बताया कि ठाकुरगंज स्थित दिगम्बर जैन मंदिर के मुख्य गेट का ताला तोड़कर चोर मंदिर के अंदर प्रवेश कर गए और वहां स्थापित भगवान महावीर की एक मूर्ति सहित तीन अन्य मूर्तियों की चोरी कर ली। ग्रामीणों को इसकी खबर सुबह तब हुई जब श्रद्धालु दर्शन के लिए पहुंचे।

उन्होंने बताया कि मंदिर की देखरेख कर रहे दिलीप कुमार जैन के बयान के आधार पर ठाकुरगंज थाने में चोरी की एक प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है तथा मूर्तियों को बरामद करने के लिए छापेमारी की जा रही है। पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर रही है। - आईएएनएस

500 साल पुराने जैन मंदिर से अष्टधातु की प्रतिमाएं चोरी

महेश्वर, May 6, 2015: प्राचीन दिगंबर जैन मंदिर में गुरूवार-शुक्रवार की दरमियानी रात्रि 2.24 बजे तीन बदमाशों ने चोरी की सनसनीखेज वारदात को अंजाम दिया। मंदिर में घुसने के लिए चोरों ने चार ताले तोड़कर यहां रखीं पांच सौ साल पुरानी अष्टधातु की चार प्रतिमाओं सहित अष्टधातु के सात छत्र व चांदी का एक छत्र चुरा ले गए।

वारदात को मात्र 12 मिनट में अंजाम देकर चोर रफूचक्कर हो गए। पूरी वारदात मंदिर में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हुई है। गश्त के दौरान पुलिस ने चोरी की सूचना समाज के अध्यक्ष राजेंद्र जैन को दी। मंदिर पहंुचने पर जैन ने बताया कि प्रतिमाएं 500 वर्ष पुरानी हैं। इनकी कीमत लाखों में है। 12 इंच की पाश्र्वनाथ प्रभु की प्रतिमा एवं तीन छोटी प्रतिमा सहित 8 छत्र चोरी गए हैं। घटनास्थल पर एडिशनल एसपी राजेश दंडोतिया शुक्रवार सुबह 10 बजे पहुंचे।

उन्होंने मंदिर का मौका मुआयना एवं सीसीटीवी फुटेज देखे। उन्होंने बताया कि फुटेज में बदमाशों के चेहरे दिख रहे हैं, पुलिस का 50 प्रतिशत काम हो गया है। शीघ्र ही चोरों को गिरफ्तार कर प्रतिमाएं बरामद कर ली जाएंगी।

मंदिर में पूर्व मे भी दो बार चोरियां हो चुकी हैं। आज तक कोई सुराग नहीं लग पाया है। चोरी होने से जैन समाज में आक्रोश है। समाजजनों का कहना है यदि शीघ्र ही चोरों को नहीं पकड़ा तो आंदोलन किया जाएगा। पुलिस ने प्रकरण दर्ज कर मामला जांच में लिया है। Source: patrika.com


जयस्थल जैन मंदिर से प्रतिमाएं चोरी

बूंदी/गेण्डोली , April 21,2015: गेण्डोली थाना क्षेत्र के जयस्थल गांव स्थित जैन मंदिर से मंगलवार रात भगवान महावीर व यंत्रजी की प्राचीन प्रतिमाएं और सिंहासन, दो दानपेटी सहित आधा दर्जन चांदी के छत्र चोरी हो गए। सूचना पर कापरेन और गेण्डोली थाना पुलिस मौके पर पहुंची।

कापरेन थाना अधिकारी दिग्विजय सिंह ने बताया कि सुबह करीब साढ़े पांच बजे जयस्थल निवासी पूरणमल जैन पूजा के लिए मंदिर पहुंचे तो मुख्य दरवाजे का ताला टूटा हुआ मिला। उन्होंने घटना की जानकारी समाज के अन्य लोगों को दी। तब सभी मंदिर में पहुंचे और जानकारी की।

ग्रामीणों ने मौके पर पहुंची पुलिस को बताया कि मंदिर से पाषाण से बनी भगवान महावीर स्वामी व अष्टधातु से बनी यंत्रजी की प्रतिमा चोरी हो गई। चोर मंदिर में रखी दो दानपेटियां व आधा दर्जन चांदी के छत्र भी ले गए। मंदिर से एक मेटल का सिंहासन भी गायब है। ग्रामीणों की रिपोर्ट पर गेण्डोली थाना पुलिस ने चोरी का मामला दर्ज कर लिया है।

कापरेन थाना अधिकारी ने मंदिर के आस-पास के स्थान पर तलाशी भी की, लेकिन कोई सुराग नहीं लगा। बूंदी से एमओबी टीम भी पहुंची, जिन्होंने मंदिर से फिंगर प्रिंट लिए। -patrika.com


बयाना के दिगम्बर जैन मंदिर मंदिर से चांदी के छत्र व दान राशि चोरी


February 24, 2015 बयाना कस्बे के दिगम्बर जैन मंदिर से शनिवार शाम को एक युवक दर्शन करने के बहाने मन्दिर में मौजूद तीन चांदी के छत्र व दो दानपेटियों में रखी राशि को चोरी कर ले गया। घटना का पता रविवार सुबह मंदिर में पूजा करने आए पुजारी को लगा। पुजारी ने इसकी सूचना जैन समाज के पदाधिकारियों को दी।

जैन समाज के अध्यक्ष व मंत्री की ओर से पुलिस में अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ माला दर्ज कराया गया है। सूचना पर थाना प्रभारी हीरालाल सैनी, उपनिरीक्षक विनोद मीणा, टाउन चौकी प्रभारी शिवगणेश मावई आदि ने मंदिर पहुंच कर मौका मुआयना किया तथा लोगों से घटना की ली।

जैन समाज के अध्यक्ष प्रमोद जैन ने बताया कि शनिवार शाम करीब 4 बजे एक युवक मंदिर में आया। इसी बीच मौका देखकर युवक श्रीचन्द्रप्रभु भगवान की प्रतिमा के ऊपर लगे करीब 800 ग्राम वजनी तीन चांदी के छत्रों तथा दो दानपेटियों के ताले तोड़कर उनमें रखी दानराशि को चोरी कर ले गया।

रविवार सुबह पुजारी सोनू जैन स्नान पूजा के लिए मंदिर आए तो उन्हें भगवान के छत्र गायब मिले तथा दानपेटियों के ताले टूटे मिले। घटना की खबर लगते ही मंदिर परिसर में जैन समाज के लोगों की भीड़ एकत्र हो गई। लोगों ने घटना पर रोष जताते पुलिस प्रशासन से माल बरामद करने व आरोपी को गिरफ्तार करने की मांग की। - राजस्थान पत्रिका

   

                                                                                            

                                                                        (Hindi Version)

                                         Site copyright ã 2004, jaindharmonline.com All Rights Reserved