logo jaindharmonline.com

Home>   Jain News>>

 

    

  

    हुकमचन्दजी पाटनी            
      
    स्व. हुकमचन्दजी पाटनी
   जन्म 1939 - स्वर्गवास 2011
 
स्व. श्री हुकमचन्द पाटनी 
   दिगम्बर जैन समाज के परम मुनि भक्त, जैन धर्म के सच्चे अनुयायी व समाज सेवी 72 वर्षीय श्री हुकम चन्दजी का 11 मार्च 2011 को स्वर्गवास हो गया |
   श्री हुकमचन्द जी पाटनी का जन्म लाडनूं, जिला नागौर, राजस्थान में सन् 1939 में हुआ | आप प्रसिद्ध उद्योगपति व समाज सेवी श्री गणेशमल जी पाटनी के पुत्र थे | बाल्य अवस्था में ही इनकी माताजी का स्वर्गवास हो गया | इनका लालन पालन श्री गणेशमल जी की बहिन चुन्नी बाई द्वारा हुआ | चुन्नी बाई एक धार्मिक और जैन धर्म में गहन आस्था रखने वाली महिला थी | श्री हुकमचन्द जी बचपन से ही चुन्नी बाई द्वारा धार्मिक संस्कार ग्रहण किए | 
   श्री हुकमचन्द जी का विवाह, प्रसिद्ध उद्योगपति श्री भैरुदान सेठी की पुत्री छगन देवी के साथ संपन्न हुआ | श्रीमती छगनी बाई जैन सिद्धान्तों का पालन करने वाली एक धार्मिक महिला है | श्रीमती छगनी बाई ने सदैव श्री हुकमचंद जी को धार्मिक अनुष्ठानों, आचार्यों, सम्धु व स्वाधीयो की सेवा के लिए प्रेरित करती रही |
                
               श्रीमती छगनी बाई      
   श्री हुकमचन्द जी ने सामाजिक, धार्मिक क्रिया कलापों में सदैव ही अग्रणी बन कर भाग लिया | हावड़ा, डबसन रोड़ मन्दिर की परिकल्पना से लेकर प्रतिष्ठा महोत्सव तक अपने महोत्सव तक आपने अपने कुशल मार्गदर्शन समाज को प्रदान किया था | आपने महोत्सव में सौधर्म इन्द्र बनकर समस्त क्रिया-कलापों में अत्यन्त हर्ष एवं उल्लास से भाग लिया था | आचार्यों, मुनिजनो के स्वागत सत्कार में आप सदैव अग्रणी रहे थे |
   श्री  हुकमचन्द जी के छः पुत्र श्री धनकुमार, श्री विजय, श्री महेन्द्र, श्री शान्ति, श्री विमल एवं श्री दिलीप है |

    
    स्व. हुकमचन्दजी पाटनी
 जन्म 1939 -  स्वर्गवास 2011

  हार्दिक श्रध्दांजली
आपके संस्कार सदैव हम सभी के पथ आलोकित करते रहेंगे  श्रध्दावनत् 
बाबूलाल, प्रकाशचन्द, हीरालाल (भ्राता) 
धनकुमार, विजय, महेन्द्र, शान्ति, विमल, दिलीप (पुत्र)
विजयकुमार, अशोककुमार (केपी) (भतीजा)
संदीप, रोमी, अरिहन्त, सिध्दार्थ, आयुष (पोत्र )
दिवस, अतिशय (प्रपोत्र) एवं समस्त पातनी परिवार एवं

   www.jaindharmonline.com 

       
       Late Hukamchandji (Left), son Bimal Patni, wife Chagni Devi and son Mahendra Patni
        in  Mahavira Jayanti procession in Kolkata
   
                                                                                                                                                       

[ Jain Dharma] [Tirthankara] [Great Jain Acharya] [Jain Literature ] [Jain Pilgrimage] [Ahimsa] [Jain Arts & Architectures ] [Jain Festivals ] [Railways][Airways] [Weather] [Contact Us ] [Advertise With Us][About Us] [Disclaimer ]

                  Site copyright ã 2004, jaindharmonline.com All Rights Reserved.